20 मई 2011

चीखता रहा

चीखता रहा
झील पार चकोर
निर्मोही चाँद ।

 -डा० जगदीश व्योम

कोई टिप्पणी नहीं: