25 जून 2011

दिए के पैर

सदा से बैर
अंधकार का सिर
दिए के पैर।

-डा० जगदीश व्योम

कोई टिप्पणी नहीं: