05 अप्रैल 2012

धूप के पाँव

धूप के पाँव
थके अनमने से
बैठे सहमे।

-डा० जगदीश व्योम

कोई टिप्पणी नहीं: