05 अप्रैल 2012

यूँ ही न बहो

यूँ ही न बहो
पर्वत-सा ठहरो
मन की कहो।


-डा० जगदीश व्योम

कोई टिप्पणी नहीं: