05 अप्रैल 2012

मिलने भी दो

मिलने भी दो
राम और ईसा को
भिन्न हैं कहाँ।


-डा० जगदीश व्योम

कोई टिप्पणी नहीं: