07 अक्तूबर 2013

नन्हें वल्बों में

नन्हें वल्बों में
गुम हो गया दिया
तैल-गंध भी

-डा० जगदीश व्योम

कोई टिप्पणी नहीं: