07 अक्तूबर 2013

धूप गौरैया

धूप गौरैया
उतरती छज्जे से
आँगन बीच

-डा० जगदीश व्योम

कोई टिप्पणी नहीं: