07 अक्तूबर 2013

क्यों तू उदास

क्यों तू उदास
दूब अभी है जिन्दा
पिक कूकेगा

-डा० जगदीश व्योम

कोई टिप्पणी नहीं: