07 अक्तूबर 2013

ओस की बूँद

ओस की बूँद
कैक्टस पर बैठी
शूली पे सन्त

-डा० जगदीश व्योम

कोई टिप्पणी नहीं: