07 अक्तूबर 2013

कुछ कम हो

कुछ कम हो
शायद ये कुहासा
यही प्रत्याशा

-डा० जगदीश व्योम

1 टिप्पणी:

sunita agarwal ने कहा…

सुन्दर :)