07 अक्तूबर 2013

इर्द-गिर्द हैं

इर्द-गिर्द हैं
साँसों वाली मशीने
इंसान कहाँ

-डा० जगदीश व्योम

कोई टिप्पणी नहीं: