09 नवंबर 2013

डा० जगदीश व्योम Dr. Jgdish Vyom

धूप गौरैया
उतरती छज्जे से
आँगन बीच

sparrow sun –
alights from the ledge
into the courtyard

***

अनाम गंध
बिखेर रही हवा
धान के खेत

the breeze
spreads a nameless scent -
paddy fields

***


सीली दीवार
सारी रात महकी
अम्मा की याद

damp walls -
fragrant through the night
memories of amma

                  ---- amma – mother

***



नन्हें वल्बों में
गुम हो गया दिया
तैल-गंध भी

lost amongst
the tiny lights, clay lamps
smell of oil too

***


उगने लगे
कंकरीट के वन
उदास मन

concrete jungles
sprouting everywhere
doleful soul

***


मोंगरा फूला
तैर गये सपने
खुली आँखों में

mogra blossoms
how gently, dreams float
in open eyes

***


टहनी हिला
जाने क्या बतियाते
जंगली पेड़

waving branches
who knows what they talk
… these wild trees

***

रात सिसकी
दूब ने सजा लिये
सफेद मोती

sighing night
the doob-grass dresses up
in white pearls

***

युगों से खड़े
ऋषि बरगद जी
बने तपस्वी

since eons
the sage banyan, stands
like an ascetic
***

-डा० जगदीश व्योम
Dr. Jgdish Vyom

1 टिप्पणी:

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

बहुत ही सुन्दर हायकू |